घनश्यामपुर, हनुमाननगर एवं सिंहवाड़ा पी.एच.सी. में लापरवाही उजागर हुई।MOIC को स्पष्टीकरण एवं वेतन बंद, BHM पदमुक्त किये गये

प्रेस नोट – 1

घनश्यामपुर, हनुमाननगर एवं सिंहवाड़ा पी.एच.सी. में लापरवाही उजागर हुई।

MOIC को स्पष्टीकरण एवं वेतन बंद।

BHM पदमुक्त किये गये।

दरभंगा :- जिलाधिकारी, दरभंगा डॉ. त्यागराजन एस.एम. द्वारा आज समाहरणालय सभाकक्ष में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक की गई। इसमें वंडर एप कार्यक्रम की विस्तृत समीक्षा कियाग या। जिला स्वास्थ्य समिति, दरभंगा के मासिक समीक्षा में कई प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में भारी लापरवाही उजागर हुई है। एनीमिया के मरीजों को आयरन की गोली नहीं खिलाये जाने के चलते एनीमिया रोगियों की संख्या में वृद्धि हो रही है। एनिमिक गर्भवती महिलाओं के प्रसव में जच्चा-बच्चा दोनों के जान जाने का खतरा मंडराता रहता है।
चिकित्सकों एवं पारा मेडिकल स्टाफ्स द्वारा स्वास्थ्य केन्द्रों में बरती जा रही लापरवाही वंडर एप के कारण उजागर हो पाई है। यह चिकित्सकों के सेवा भाव में गिरावट एवं संवेदनहीनता को दर्शाता है। जिलाधिकारी ने इसे असामान्य घटना बताया है। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों की लापरवाहीसे एक भी व्यक्ति की जान जाती है तो उक्त चिकित्सकों को सेवा में रहने का कोई अधिकार नहीं होगा। ऐसे लापरवाह एवं संवेदनहीन चिकित्सकों/स्टाफ्स के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई होगी। वे समाहरणालय सभा कक्ष में आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति की समीक्षा बैठक में बोल रहे थे।
समीक्षा में घनश्यामपुर, हनुमाननगर जाले, कुशेश्वरस्थान एवं सिंहवाड़ा प्रखण्डों में वंडर एप में गर्भवती महिलाओं की डाटा इन्ट्री एवं जेनरेट हुए एलर्ट प्रतिवेदन अत्यंत असंतोष जनक पाया गया। इसके लिए प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी सहित बी.एच.एम. एवं ए.एन.एम. को जिम्मेवार मानते हुए इन प्रखण्डों के एम.ओ.आई.सी., बी.एच.एम. एवं ए.एन.एम. को स्पष्टीकरण पूछा गया है और उनके वेतन भुगतान पर रोक लगा दिया गया है। वहीं घनश्यामपुर एवं हनुमाननगर के बी.एच.एम. के द्वारा कर्त्तव्य निर्वह्न में भारी लापरवाही बरतने के चलते उन्हें पदमुक्त करने का निदेश दिया गया है, जिसमें हनुमाननगर के बी.एच.एम. जमील अहमद के नाम शामिल है। उक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के चिकित्सकों/कर्मियों को 01 सप्ताह के अंदर प्रदर्शन में अपेक्षित सुधार लाने को कहा गया है।
बताया गया कि जिले में कुल 36528 गर्भवती महिलाओें का डाटा वंडर एप में प्रविष्टि की गई है। इसमें 13485 महिलाओं के गर्भावस्था के दौरान जटिलता उत्पन्न होने का एजर्ट जेनरेट हुआ है। इसमें से 1282 रेड एलर्ट श्रेणी वाले मरीज है एवं बाकी 12203 येलो एलर्ट श्रेणी वाले मरीज है।
जिलाधिकारी ने कहा है कि गर्भावस्था के दौरान जिस भी महिला को जटिलता उत्पन्न हुई है, उन सभी को तुरंत समुचित चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाये। बताया गया कि गर्भावस्था के दौरान जटिलता उत्पन्न होने पर 555 गर्भवती महिलाओं की चिकित्सा की गई है। जाँच प्रतिवेदन में बताया गया है कि 529 महिलाओं में रक्त की बड़ी कमी पाई गई, 6596 महिलाएँ मोडरेट एवं 5363 महिलाएँ माइल्ट एनेमिक बताई गई है। जिलाधिकारी ने सभी एनिमिक महिलाओं को आयरन का सप्लीमेंट डोज देने को कहा है।
उन्होंने कहा कि वंडर एप में गर्भवती महिलाओं के डाटा की प्रविष्टि किये जाने पर गर्भावस्था के दौरान किसी भी महिला को किसी भी प्रकार की जटिलता उत्पन्न होती है तो वंडर एप से एलर्ट जेनरेट हो जाता है। इससे उक्त महिला को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करना आसान हो जाता है। इस तकनीक को अपनाने से गर्भवती महिलाओं एवं नवजात शिशुओं के जान पर खतरा कम हो सकता है, बशर्तें चिकित्सक संवेदनशील हो।
उन्होंने सभी चिकित्सकों से आग्रह किया कि वे अपने कर्त्तव्य के प्रति पूर्ण संजीदगी बरतें एवं संवेदनशील बनें। वंडर एप से गड़बरियाँ पकड़ी जा रही है। समीक्षा में यह भी उजागर हुआ कि कतिपय चिकित्सकों द्वारा गंभीर मराजों को मैन्यूअली रेफर किया जा रहा है, जो कि अत्यंत गलत है। रेफर किये गये मरीज की सूचना वंडर एप में प्रविष्टि कर दिये जाने पर उक्त मरीज को तुरंत आकस्मिक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराया जाता है। उन्होंने कहा कि गंभीर मरीजों के चिकित्सा अथवा उन्हें रेफर किये जाने में कौन सावधानियाँ बरती जानी है, यह सब वंडर एप में मौजूद है।
जिलाधिकारी द्वारा हिदायत दिया गया कि एक भी मरीज के मृत्यु में जिस भी चिकित्सकों/कर्मी की लापरवाही उजागर होगी, उन चिकित्सकों/कर्मियों को कदापि नहीं बख्शा जायेगा। उन्होंने याद दिलाया कि हाल के दिनों में 11 मृत्यु हुए है। उन सभी मृत्युओं के लिए जिम्मेवारी तय की जायेगी। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जायेगा।
इस बैठक में प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. जय प्रकाश गुप्ता, डी.आई.ओ. डॉ. ए.के. मिश्रा, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी सुशील कुमार शर्मा, सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, डॉ. श्रद्धा, डी.एच.एम., सभी बी.एच.एम. आदि उपस्थित थे।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *