उत्तरप्रदेश – जन वितरण प्रणाली विक्रेता की मनमानी, कोटा निरस्त की उठ रही है मांग – आयोध्या

  1. उत्तरप्रदेश – जन वितरण प्रणाली विक्रेता की मनमानी, कोटा निरस्त की उठ रही है मांग – आयोध्या

Desk- DBN NEWS/DBN TV
UP/BIHAR/JHARKHAND
आयोध्या,उत्तरप्रदेश

खबर एवं विज्ञापन के लिए 7549852605 पर संपर्क करें।

अयोध्या डेढ़ महीने पहले निलंबित हुए राशन के कोटे को अब ग्रामीणों ने निरस्त करने की मांग की है।
सदर तहसील पहुंचे लोगों ने कोटेदार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान घंटों कार्ड धारक अपने हिस्से का राशन लेने के लिए इंतजार करते रहते हैं लेकिन शहर में बैठा कोटेदार गांव नहीं पहुंच पाता है ।
जनपद के पूरा बाजार विकासखंड स्थित नारायणपुर गांव का कोटा
गांव निवासी राम जी शुक्ला के नाम आवंटित किया गया है.ग्रामीणों का आरोप है कि कोटेदार फैजाबाद शहर स्थित अपने आवास पर रहता है. जहां वह एक किराना की दुकान भी चलाता है. गांव में नही रहने के कारण वह कार्ड धारकों को ससमय से राशन उपलब्ध नहीं करा पाता है .
कुछ दिन पहले जब कोरोना महामारी के दौरान ग्रामीणों ने उसके खिलाफ आवाज उठाने का प्रयास किया तो दबंग कोटेदार ने ग्रामीणों के साथ अभद्रता की। उनके घर पर जाकर उन्हें धमकाने का प्रयास किया. उप जिलाधिकारी सदर को दिए गए शिकायत पत्र में ग्रामीणों ने कहा है कि कोटेदार ने शिकायत करने वाले कार्ड धारकों को राशन ना देने की धमकी दी है. इस संबंध में पूर्व में की गई शिकायत पर 28 सितंबर 2020 को कोटा निलंबित कर दिया गया था. उसके बाद से अब तक ग्रामीणों को राशन उपलब्ध नहीं सका है। सदर तहसील पहुंचे ग्रामीणों ने निलंबित कोटे को निरस्त कर नए सिरे से गूगल कोटा आवंटित करने की प्रक्रिया शुरू करने की मांग की है.सदर तहसील पहुंची ग्रामीण महिला ने कहा कि कोटेदार रामजी शुक्ला समय पर उन्हें राशन नहीं देता है. इसकी शिकायत करने पर उन्हें धमकाया जाता है. तीन-तीन महीने तक राशन के लिए उन्हें टरकाया जाता है. सीमित दिनों में कोटेदार राशन देने गांव में पहुंचते हैं जब भीड़ हो जाती है तो ग्रामीणों को घंटों खड़े होकर इंतजार करना पड़ता है. कोई समस्या की शिकायत पर उन्हें कोटेदार के अभद्र व्यवहार को भी झेलना पड़ता है. सदर तहसील पहुंची महिलाओं ने उप जिलाधिकारी से कोटेदार का कोटा निरस्त कर नए कोटेदार को आवंटित करने की मांग की है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *